SC-ST एक्ट का कारण हो सकता है मायावती के ट्विटर में जातिगत कमेंट

लखनऊ (यूपी) : बसपा प्रमुख भी सोशल मीडिया के दमदार प्लेटफार्म यानी ट्विटर पर सक्रिय हो चुकी हैं हालांकि ट्रोलर उनके ट्वीट पर अभद्र टिप्पणी कर रहे हैं |

15 ट्वीट में 53 हजार फालोविंग कमा चुकी हैं मायावती :

बहन मायावती नें अपने ट्विटर में आने की आधिकरिक घोषणा प्रेस रिलीज के द्वारा 6 फरवरी को कर चुकी हैं उसके बाद आज 7 फरवरी को दोपहर 3 बजे तक वो 15 ट्वीट कर चुकी हैं | जिसमें उन्होंने केंद्र की मोदी सरकार को आड़ों हाँथ लिया है | लेकिन इस बीच ट्विटर पर उनके लिए ट्रोल करने वाले जातिगत टिप्पणी के अलावा तरह-तरह की बातें लिख रहे हैं | लेकिन ऐसे लोगों को अब सावधान होने की जरूरत है |

मायावती पर जातिगत टिप्पणी SC-ST एक्ट का कारण हो सकता है :
इस मसले पर जब फलाना दिखाना की टीम नें कानूनी सलाह ली तो पता चला कि ” अगर सोशल मीडिया में जानबूझकर किसी पर जातिगत टिप्पणी की जाती है तो ऐसे लोगों पर SC-ST के तहत केस दर्ज तो किया जा सकता है और तुरंत गिरफ्तारी भी हो सकती है लेकिन इसे कोर्ट में प्रमाण के रूप में सिद्ध करना काफ़ी मुश्किल होगा | “
मायावती का जब हमनें आधिकारिक ट्विटर एकाउंट चेक किया तो उनके ट्वीट के जवाब में लोगों नें उनपर कम पढ़े लिखे होने वाले कमेंट किए हैं | इसके अलावा जातिगत टिप्पणी करने वालों पर एट्रोसिटी का मामला दर्ज हो सकता है |
एट्रोसिटी एक्ट से बचे तो दूसरे एक्ट भी हैं : साइबर एक्सपर्ट
विवादित टिप्पणी व ट्रोल के संबंध जब हमारी टीम नें साइबर विशेषज्ञों से बात की तो उन्होंने बताया कि ” इस तरह के केसों में IT एक्ट, IPC व CRPC तीनों के तहत कम्प्लेन दर्ज कराई जा सकती है |
हालांकि जातिगत ट्रोलिंग के मामले में उन्होंने कहा कि ” यदि एट्रोसिटी एक्ट कोर्ट में सिद्ध नहीं भी हो पाया तो ट्रोलिंग और हरासमेंट के लिए सूचना व तकनीकी अधिनियम के तहत भी आपको सजा मिल सकती है |
तो ऐसे में यूजर्स को किसी भी व्यक्ति को अभद्र टिप्पणी करने से बचना चाहिए बांकी राजनीतिक रूप से हो सकता है कि किसी से विचार न मिलें उसके लिए कोई भी व्यक्ति भद्रता पूर्वक लिखने बोलने के लिए आजाद है |
+ posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous Story

बच्चा माँ-बाप पर करेगा केस, पूंछा ‘मेरी मर्जी बिना क्यों पैदा किया…?

Next Story

रोज़ डे: आशिकों की नवरात्रि का पहला दिन, उद्घाटन फूल से

Latest from Uncategorized

“अब हिन्दू-मुस्लिम नहीं बैकवर्ड-फॉरवर्ड दंगा होगा, ब्राह्मणों को खदेड़ कर मारिये”, वायरल वीडियो पहुंचा लखनऊ कोर्ट

लखनऊ : ब्राह्मणों के खिलाफ नफरत फैलाने वाले भाषण और हिंसा भड़काने के आरोप में राष्ट्रीय…

यूपी- जाति देखकर किसानों से ब्याज वसूलेगा बैंक, वन टाइम सेटलमेंट योजना के समाप्त होने के बाद लिया फैसला

हमीरपुर- उत्तरप्रदेश के हमीरपुर जिले में भूमि विकास बैंक में एक लाख तक बकायेदार किसानों से…