अरुणाचल: BJP द्वारा छह SC समुदायों को स्थायी निवास प्रमाण पत्र के प्रस्ताव का भारी विरोध, 1 की मौत

ईटानगर (अ.प्र.) : राज्य की पेमा खांडू वाली सरकार यानी अरुणाचल प्रदेश में 6 गैर-आदिवासी समुदायों को स्थायी निवासी प्रमाण पत्र (PRC) देने के प्रस्ताव के खिलाफ चल रहे विरोध प्रदर्शन में 1 व्यक्ति की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए।

APST समुदायों को PRC जारी करने का मुद्दा :

जब से राज्य सरकार ने घोषणा की कि वह 6 गैर-अरुणाचल अनुसूचित जनजाति (APST) समुदायों को PRC जारी करने पर विचार कर रही है उसके बाद से राजधानी ईटानगर और कुछ अन्य क्षेत्रों में व्यापक हिंसा की सूचनाएं मिली हैं | शनिवार को लगाए गए अनिश्चितकालीन कर्फ्यू के बाद आंदोलनकारियों ने राज्य के डिप्टी CM चोउना मीन के निजी आवास में आग लगा दी और रविवार को राजधानी में डिप्टी कमिश्नर के कार्यालय में तोड़फोड़ की। ईटानगर और नाहरलागुन में इंटरनेट सेवाएं निलंबित कर दी गई हैं।

स्थायी निवासी प्रमाणपत्र यानी PRC क्या है…?

स्थायी निवासी प्रमाण पत्र भारतीय नागरिकों को जारी किया गया एक कानूनी दस्तावेज है जो निवास के गवाह या प्रमाण के रूप में कार्य करता है और आधिकारिक कार्यों के लिए आवासीय प्रमाण के रूप में प्रस्तुत किया जाना जरूरी होता है।

राज्य सरकार ने क्या प्रस्ताव दिया है…?

राज्य में BJP की अगुवाई वाली सरकार नमासई और चांगलांग जिलों में रहने वाले 6 APST समुदायों और विजयनगर में रहने वाले गोरखाओं को प्रमाण पत्र जारी करने पर विचार कर रही है। उन समुदायों में देवरिस, सोनोवाल कछारियां, मोरान, और आदिवासी मूल निवासी हैं। इनमें से अधिकांश समुदायों को पड़ोसी राज्य असम में ST की मान्यता प्राप्त है। एक संयुक्त उच्च स्तरीय समिति (JHPC) ने हितधारकों के साथ चर्चा करने के बाद, 6 समुदायों को PRC देने की सिफारिश की, जो अरुणाचल प्रदेश के मूल निवासी नहीं हैं, लेकिन दशकों से नामसाई और चांगलांग जिलों में रह रहे हैं।

PRC के खिलाफ अरुणाचल में लोग क्यों विरोध कर रहे हैं…?

अरुणाचल प्रदेश में कई समुदाय-आधारित समूहों और संगठनों में आक्रोश है | ये लोग प्रस्ताव लागू होने पर स्थानीय लोगों के अधिकारों और हितों के साथ समझौता मानते हैं। जेएचपीसी सिफारिश को शनिवार विधानसभा में पेश किया जाना था। हालांकि, विभिन्न समूहों द्वारा आंदोलन के मद्देनजर, यह नहीं किया गया था क्योंकि अध्यक्ष ने सदन को स्थगित कर दिया था।

अब मामले में गृह मंत्रालय का दखल :

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को लोगों से शांति और सौहार्द बनाए रखने की अपील की। केंद्रीय मंत्री किरन रिजिजू ने स्पष्ट किया कि ” राज्य सरकार PRC पर बिल नहीं ला रही है, लेकिन केवल नबाम रेबिया (रेबिया राज्य सरकार में कैबिनेट मंत्री हैं) के नेतृत्व वाली JHPC की एक रिपोर्ट को शामिल कर रही है, जिसमें सदस्य और छात्र संगठन शामिल हैं। ” उन्होंने ट्वीट किया कि “ इसका मतलब है कि राज्य सरकार ने इसे स्वीकार नहीं किया है। वास्तव में, कांग्रेस PRC के लिए लड़ रही है लेकिन लोगों को गलत तरीके से उकसा रही है ” |

+ posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous Story

PM की भविष्यवाणी वाली घोषणा, ”अगला ‘मन की बात’ रेडियो प्रोग्राम 2019 चुनाव के बाद”

Next Story

कुलगाम: अमित ठाकुर शहीद, बेटा खिलौने से खेल रहा था, पापा जान से खेल गए

Latest from Uncategorized

“अब हिन्दू-मुस्लिम नहीं बैकवर्ड-फॉरवर्ड दंगा होगा, ब्राह्मणों को खदेड़ कर मारिये”, वायरल वीडियो पहुंचा लखनऊ कोर्ट

लखनऊ : ब्राह्मणों के खिलाफ नफरत फैलाने वाले भाषण और हिंसा भड़काने के आरोप में राष्ट्रीय…

यूपी- जाति देखकर किसानों से ब्याज वसूलेगा बैंक, वन टाइम सेटलमेंट योजना के समाप्त होने के बाद लिया फैसला

हमीरपुर- उत्तरप्रदेश के हमीरपुर जिले में भूमि विकास बैंक में एक लाख तक बकायेदार किसानों से…