क्षत्रियों को ‘गुंडा’ बताने वाले सपा प्रत्याशी गठबंधन के बाद भी 40 हज़ार वोटों से हारे

कौशाम्भी (यूपी) : क्षत्रिय विरादरी को गुंडा कहने वाले सपा प्रत्याशी को हार का मुंह देखना पड़ा और उनका ये बयान मतदान के समय सोशल मीडिया में काफ़ी वायरल हुआ था |

चुनाव आयोग के आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार महागठबंधन प्रत्याशी सरोज इंद्रजीत को कौशाम्भी लोकसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी विनोद कुमार सोनकर नें 38,772 वोटों से हरा दिया है | वहीं राजा भैया की नई नवेली पार्टी जनसत्ता लोकतांत्रिक दल के प्रत्याशी शैलेन्द्र कुमार को 1,56,269 वोट मिले और वो इस लड़ाई में तीसरे नंबर पर रहे |

हालांकि सपा प्रत्याशी के हार का एक कारण उनका क्षत्रिय समाज को आहत करने वाला बयान भी बना | जिसका सोशल मीडिया में उनका एक बयान काफ़ी वायरल हुआ उसके बाद करणी सेना नें उनके ख़िलाफ़ हजरतगंज थाने में FIR लिखा कर कार्रवाई की मांग की थी |



इस बयान में इंद्रजीत ने राजपूत समाज को साफ़ शब्दों में वीडियो जो कहा है उसका उल्लेख हम यहाँ लिख रहे है:

“केवल क्षत्रिय बिरादरी के जो गुंडे है केवल क्षत्रिय बिरादरी के मुट्ठी भर लोग है, जो लोगो को मारते है, पीटते है, अत्याचार करते है, बराबर से उठने बैठने नहीं देते, अपनी मर्जी से कोई काम नहीं करने देते है”।

हालांकि हम ऐसे बयानों को समाज में बढ़ावा को न देकर उसकी आलोचना करते हैं चाहे वो किसी धर्म जाति या साम्प्रदाय के ख़िलाफ़ हो |

और हमारी अपील भी है कि कोई भी राजनैतिक दल या उसका नेता भारतीय जनप्रतिनिधित्व का सम्मान करते हुए किसी की भावनाएं आहत करने वाले बयान न दें न ही उसका समर्थन करें |

+ posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous Story

RJD के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष का बड़ा बयान, ‘सवर्ण आरक्षण का विरोध RJD को ले डूबा…’

Next Story

पहले अम्बेडकर अब पोते प्रकाश अम्बेडकर को झेलनी पड़ी 3.5 लाख वोटों की करारी हार

Latest from Uncategorized

“अब हिन्दू-मुस्लिम नहीं बैकवर्ड-फॉरवर्ड दंगा होगा, ब्राह्मणों को खदेड़ कर मारिये”, वायरल वीडियो पहुंचा लखनऊ कोर्ट

लखनऊ : ब्राह्मणों के खिलाफ नफरत फैलाने वाले भाषण और हिंसा भड़काने के आरोप में राष्ट्रीय…

यूपी- जाति देखकर किसानों से ब्याज वसूलेगा बैंक, वन टाइम सेटलमेंट योजना के समाप्त होने के बाद लिया फैसला

हमीरपुर- उत्तरप्रदेश के हमीरपुर जिले में भूमि विकास बैंक में एक लाख तक बकायेदार किसानों से…